मृतका ने आरोपी को बता रखा था कपड़ों के मिल का मालिक, एक अनाथ आश्रम मे रहा करती थी सरस्वती वैध

मृतका ने आरोपी को बता रखा था कपड़ों के मिल का मालिक – मुंबई की मीरा रोड से श्रद्धा वालकर से भी ज्यादा खतरनाक केस सामने आया। आकाश अपार्टमेंट मे रहे एक लिव-इन-रीलैशनशीप मे रह रहे एक शख्स ने अपनी ही पार्टनर का पहले कत्ल किया फिर उसके शव के टुकड़े किए फिर कुकर मे उबले उसके बाद मिक्सी मे पीसकर सबूत मिटाने की पूरी कोशिश की। लेकिन आरोपी अपने घिनोंने मनसूबों मे कामयाब हो पता। तभी उसके पड़ोसी को उस पर शक हुआ और उसने तुरंत पुलिस कम्प्लैन्ट कर दी। जिसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुँच गई और शव के टुकड़ों को बरामद कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल आरोपी अभी पुलिस हिरासत मे है और पुलिस पूछताछ कर रही है।

अनाथ आश्रम मे सरस्वती ने आरोपी को कपड़ा मिल का मालिक बताया

आपको बता दें की सरस्वती वैध अनाथ थी। मर्तका सरस्वती वैध अहमद नगर के जनकीबाई आपटे बालिका आश्रम से पढ़ी थी। उन्होंने आश्रम से अपनी दसवीं की पढ़ाई की थी। वही पे काम कर ही दूसरी कर्मचारी अनु सालवे ने बताया की सरस्वती उस आदमी को मामा कहके बुलाती थी। यहा तक की सरस्वती ने आश्रम ने ये भी बताया था की मामा बेहद ही पैसे वाला है उसकी खुद की कपड़े की मिल है।

अनु सालवे ने आगे बताया की वह दोनों जब भी आते थे वह हमेशा ही सफेद कार मे आते थे। और सरस्वती हमेशा दूसरे बच्चों के लिए खाना और कपड़े भी लाया करती थी। हालांकि पहले वो हमेशा खुश रहा करती थी। लेकिन जब वह 2 साल पहले जब आई थी तब वह काफी दुखी लग रही थी और उस दिन हमारी ढंग से बात भी नहीं हो पाई थी। अनु के ये भी बताया की जब वह 18 साल की होते ही अपनी बहन के घर चली गई थी।

आरोपी ने बताया की सरस्वती ने खुद 3 जून को खुदखुशी की थी

आपको बता दें की मुंबई पुलिस ने आरोपी मनोज को अदालत मे पेश कर 16 जून तक रिमांड पे लिया है। हालांकि आरोपी ने पुलिस के आगे ये बात कबूल की है की अक्सर उसके और सरस्वती के बीच झगड़े हुआ करते थे लेकिन झगड़े ऐसे भी नहीं होते थे जिसके लिए मैं सरस्वती का कत्ल कर दो। आरोपी ने पुलिस को बताया की 3 जून को महिला ने खुदखुशी जिसके बाद मैं काफी डर गया था की मैं ना फंस जाऊ इसी के चक्कर मे सरस्वती के शव को ठिकाने लगाने की कोशिश कर रहा था। हालांकि पुलिस का यही कहना है की अमूमन सभी आरोपी बचने के लिए ऐसी कहानी बनाते है। भरोसा नहीं किया जा सकता इसलिए जांच अभी जारी है।

मकान से बदबू आने के बाद पड़ोसी को हुआ शक, फिर पुलिस को की कम्प्लैन्ट

मनोज साहनी के ठीक सामने रह रहे पड़ोसी सोमेश श्रीवास्तव ने बताया की उनको दो तीन दिनों मनोज के मकान से बड़ी ही असहनीय बदबू आ रही थी। हालांकि इस बीच सोमेश ने कई बार मनोज का दरवाजा भी खटखटया था लेकिन कभी भी दरवाजा नहीं खुला । जबकि सोमेश को अंदर से तमाम तरह की आवाज़े सुनाई दे रही थी। जिसमे कई बार उसको घर के अंदर से स्प्रे करने की भी आवाज आती थी। जिसके बाद उसका शक यकीन मे बदल गया की जरूर कोई घटना घाटी है इस मकान मे सोमेश ने बताया की 7 जून को बिल्डिंग के नीचे मिलने पर सोमेश ने मनोज को बताया की तुम्हरे घर काफी अजीब किसम की बदबू आ रही है। उसने उस वक्त भी नजरंदाज कर दिया। जिसके बाद मुझे बात काफी अटपटी लगी तो मैंने तुरंत पुलिस को पूरा मामला बताया। जिसके बाद पुलिस ने आके दरवाजा खुलवाया तो अंदर का मंज़र दिल दहला देने वाला था। घर के अंदर कटर मशीन रखी हुई थी, वही बेड पे काले रंग की बड़ा प्लास्टिक बैग रखा हुआ था। साथ ही, तीन बाल्टी भी मौजूद थी जिनमे मांस के टुकड़े रखे हुए थे जिसको देख के ऐसा बिल्कुल अंदाजा नहीं लगाया जा सकता की ये शरीर के टुकड़े होंगे।

इसे भी पढे : कपिल शर्मा ने किए अपने लूकस को लेके कई चेंजेस, इन तस्वीरों को देख लोग बोल पड़े, बॉलीवुड के बड़े एक्टर भी इनके आगे कुछ नहीं

राशन की दुकान मे मिले थे पहली बार

आरोपी मनोज साहनी और मर्तका सरस्वती वैध पहली बार बोरीवली की एक राशन की दुकान पे मिले थे। जहा मनोज साहनी काम किया करता था, मनोज ने आईटीआई की पढ़ाई की थी। जबकि सरस्वती वैध एक अनाथ आश्रम मे रहा करती थी, दूसरी तरफ मनोज भी अपने परिवार से अलग रहता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version